Top Stories

योग दिवस | Latest News 2022

योग दिवस
योग दिवस

21 जून सबसे लंबा दिन होता है. मान्यता अनुसार इस दिन प्रकृति की सकारात्मक ऊर्जा सक्रिय रहती है, इसलिए इस दिन International Yoga Day मनाया जाता हैं।

 

योग न सिर्फ शारीरिक स्वास्थ्य के लिए बल्कि मानसिक सेहत के लिए भी अच्छा होता हैं। योग के महत्व को बताने के लिए और लोगों में इसके प्रति जागरूकता फैलाने के लिए हर साल अंतरराष्‍ट्रीय योग दिवस यानी इंटरनेशनल योग दिवस(International Yoga Day 2022) मनाया जाता हैं। 

 

योग की उत्पत्ति भारत से ही मानी जाती हैं। भारत में योग का इतिहास लगभग 2000 वर्ष पुराना बताया जाता हैं।  आधुनिक काल में योग और इसके फायदे की पुनर्स्थापना का श्रेय स्वामी विवेकानंद को दिया जाता  हैं। स्वामी जी ने अपने शिकागो सम्मेलन भाषण में पूरी दुनिया को योग का संदेश दिया.भारत में योग का इतिहास बहुत पुराना है. शास्त्रों में भी योग का उल्लेख मिलता हैं। ऋग्वेद में भी योग की पूरी व्याख्या हैं।  योग पर आधारित पुस्तकों का एक संग्रह अभी भी भारत के राष्ट्रीय संग्रहालय में पाया जाता हैं।

 

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस(International Yoga Day 2022) हर साल 21 जून को मनाया जाता है. दुनिया इस साल 8वां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाएगी। हर साल इस दिन लोग बड़ी-बड़ी जगहों पर इकट्ठा होते हैं।  और एक साथ योग करते हैं।  योग के अमूल्य लाभों के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए हर साल अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता हैं। रोजानायोग करने से आपके जीवन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता हैं।  यह तनाव और चिंता को दूर करने में भी मदद करता हैं। योग मोटापे से छुटकारा पाने का सबसे आसान तरीका है।  साथ ही यह कई तरह की बीमारियों और बीमारियों से निजात दिलाने में भी फायदेमंद होता हैं।

योग दिवस
योग दिवस

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की थी इसकी पहल

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 सिंतबर 2014 को योग दिवस मनाने की पहल की थी जिसके बाद 11 दिसंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र में 177 देशों ने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी।  अमेरिका द्वारा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने की अपील के बाद90 दिनों के भीतर 177 देशों ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस(International Yoga Day 2022) का प्रस्ताव पारित किया।  21 जून 2015 को पूरी दुनिया में पहली बार अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गयाजिसमें 84 देशों के 35,985 लोगों और प्रतिनिधियों ने दिल्ली के राजपथ पर 21 योग आसन किए। 

योगसन  करने के फ़ायदे

योग करने से शरीर स्वस्थ रहता हैं।  योग का जीवन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता हैं। रोजाना योग करने से शारीरिक और मानसिक रोग दूर रहते हैं। बढ़ते तनाव को कम करने के लिए और जीवन शैली से उत्पन्न होने वाली समस्याओं को योग से दूर किया जा सकता हैं। योग करने से शरीर मजबूत बनता हैं।  योग से शारीरिक और मानसिक ऊर्जा बढ़ती हैं।

21 जून को ही क्यों मनाया जाता है अंतराष्ट्रीय योग दिवस ?

वैसे तो योग किसी भी दिन किया जा सकता हैं। लेकिन 21 जून को सभी को एक साथ जोड़ने के लिए निर्धारित किया गया था. इस खास दिन के लिए इस तारीख को चुनने की एक खास वजह भी हैं।  दरअसल 21 जून साल का सबसे लंबा दिन होता हैं। इस दिन सूर्य जल्दी उगता हैं।  और देर से अस्त होता हैं। ऐसा माना जाता है कि इस दिन सूर्य की चमक सबसे अधिक प्रभावशाली होती है और प्रकृति की सकारात्मक ऊर्जा सक्रिय रहती हैं। 

“योग भारत की प्राचीन परम्परा का एक अमूल्य उपहार हैं। यह दिमाग और शरीर की एकता का प्रतीक है; मनुष्य और प्रकृति के बीच सामंजस्य हैं।  विचार, संयम और पूर्ति देने वाला है तथा स्वास्थ्य और भलाई के लिए एक समग्र दृष्टिकोण को भी प्रदान करने वाला है। यह व्यायाम के बारे में नहीं हैं।  लेकिन अपने भीतर एकता की भावना, दुनिया और प्रकृति की खोज के विषय में है। हमारी बदलती जीवन- शैली में यह चेतना बनकर हमें जलवायु परिवर्तन से निपटने में मदद कर सकता है। एक अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस को गोद लेने की दिशा में काम करते हैं।”

योग मनुष्य स्वस्थ रखने में साहयता करता है । योग करने से मनुष्य का मन और आत्मा संतुलित रहती है। लेकिन मात्र शरीर को सुडौल बनाने और मन को कुछ क्षणों के लिए नियंत्रण में रखने से मनुष्य का उद्देश्य पूरा नहीं होता। परमात्मा की प्राप्ति भक्ति योग  से ही संभव है।

प्राणायाम

प्राणायाम प्राण  अर्थात् साँस आयाम याने दो साँसो मे दूरी बढ़ाना, श्‍वास और नि:श्‍वास की गति को नियंत्रण कर रोकने व निकालने की क्रिया को कहा जाता है।

ध्यान

ध्यान या अवधान चेतन मन की एक प्रक्रिया हैं। जिसमें व्यक्ति अपनी चेतना बाह्य जगत् के किसी चुने हुए दायरे अथवा स्थलविशेष पर केंद्रित करता है। यह अंग्रेजी “अटेंशन” के पर्याय रूप में प्रचलित हैं । हिंदी  में इसके साथ “देना”, “हटाना”, “रखना” आदि सकर्मक क्रियाओं का प्रयोग इसमें व्यक्तिगत प्रयत्न की अनिवार्यता सिद्ध करता हैं । ध्यान द्वारा हम चुने हुए विषय की स्पष्टता एवं तद्रूपता सहित मानसिक धरातल पर लाते हैं।

Read Also –अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस प्रतिवर्ष 21 जून को मनाया जाता है। यह दिन वर्ष का सबसे लम्बा दिन होता है। 

Read Also-नीता का जन्म 4,April 1995 को Mumbai,Maharashtra के एक Middle Class Family मैं हुआ है। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button